इतिहास का सबसे बड़ा, विकासोन्मुखी, ‘सबका साथ, सबका विकास’ वाला UP का बजट, पढ़ें क्या बोले CM योगी

गांव, शहर, किसान, मजदूर, नौजवान, महिलाओं और समाज के हितों का ध्यान रखने वाला बजट वित्त मंत्री ने पेश किया: योगी आदित्यनाथ

डेली संवाद ब्यूरो, लखनऊ
उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने बजट 2019 – 2020 में सभी वर्गों को खुश किया है। किसानों और गांवों की सबसे बड़ी समस्या गौवंश को लेकर इस बजट में बड़े उपाय किए गए हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि साल 2019- 2020 में उत्तर प्रदेश का सबसे बड़ा बजट है। पिछली बार से 11.98 फीसदी बजट बढ़ा है। सबसे बड़ी बात तो यह है कि यब बजट सभी तबकों को ध्यान में रख कर प्रस्तुत किया गया है।

प्रदेश सरकार के इस बजट में जनसमस्या निवारण से लेकर उत्तर प्रदेश में निवेश और विकास की नई बयार बहाने के लिए 4 लाख 79 हजार 701 करोड़ 10 लाख रुपये (4,79,701,10 करोड़ रुपये) का बजट पारित किया गया है। जो कि वर्ष 2018-2019 के बजट के मुकाबले 12 प्रतिशत अधिक है। इसमें 21 हजार 212 करोड़ 95 लाख रुपये (21,212.95 करोड़ रुपये) की नई योजनाओं को शामिल किया गया है।

आजादी के बाद कई गांवों में पहुंची बिजली की रोशनी

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह वही प्रदेश है, जब कभी तीन जिलों में बिजली रहती थी। अब सभी 75 जिलों में समान रूप से बिजली पहुंचाई जा रही है। आजादी के बाद जिन लोगों ने बिजली के दर्शन नहीं किए गए थे, हमने डेढ़ साल में विद्यतीकरण का काम पूरा किया। गरीब परिवारों को निशुल्क बिजली मुहैया करवाई गई है। इस क्षेत्र में अभी भी काम युद्ध स्तर पर है। इसके बजट में 20.21 फीसदी की वृदिध की गई है।

मदरसों के उद्धार और आधुनिकीकरण पर प्रदेश सरकार की बड़ी पहल

इसके साथ ही बेटियों के लिए कन्या सुमंगला योजना में 1200 करोड़ का प्रावधान किया गया है। युवाओं को रोजगार देने के साथ साथ यूपी में बदहाल मदरसों का पहली बार उद्धार होने जा रहा है। इसके लिए प्रदेश सरकार ने 440 करोड़ रुपये खर्च करने का इंतजाम किया है। जिससे मदरसों में पढ़ने वाले छात्रों को अब बेहतर सुविधा और शिक्षा हासिल हो सकेगी।

प्रदेश में सड़कों का जाल बिछाने के लिए हमने लोक निर्माण विभाग के बजट में 12.62 फीसदी की बढोत्तरी की है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बार-बार कहते हैं कि किसानों की आय को दोगुना बढ़ाना चाहिए, जिससे किसानों के चेहरे पर मुस्कान आ सके। जिससे 2022 तक उनकी आय को दोगुना किया जा सके, इसके लिए बजट में पूरा इंतजाम किया गया है। सिचाई विभाग के लिए लगभग 11 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है।

1973 से लंबित चल रही आ रही परियोजानाओं को सरकार ने शुरू करवाया

किसानों के लिए स्वाभाविक रूप से नई तकनीकी के साथ साथ सिंचाई की व्यवस्था बहुत आवश्यक है। यहां 1974 और 1980 की परियोजनाएं लंबित थीं, गत वर्ष हम लोगों ने एक परियोजना को पूरा किया। बाण सागर परियोजना को हमने पूरा किया।

योजना आयोग ने 1973 में योजना तैयार की थी औऱ 1978 में तत्कालीन प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई ने शिलान्यास किया था। लेकिन यह योजना पूरी नहीं हो सकी। इस योजना को हमने पूरा किया। इसे 15 जुलाई को हमने प्रधानमंत्री जी से परियोजना को राष्ट्र को समर्पित करवाया। इसमें 1.50 लाख हैक्टेअर जमीन की सिंचाई हो सके। जिससे किसानों के चेहरे पर मुस्कान आई।

किसानों की आय होगी अब दोगुना, सिंचाई के संसाधन भी बढ़ेंगे

सिंचाई विभाग के बजट में हमने वृद्धि की है। 30 लाख हैक्टेयर भूमि सिंचित हो सकेगी। जिससे किसानों की आय बढ़ सकेगी। किसानों की लागत को हम उचित दाम देने के लिए वचनवद्ध हैं।

खाद्य और रसद विभाग के माध्यम से हमने प्रस्ताव तैयार किया है। हमारी खरीद प्रक्रिया सरल और बेहतर हुई है, जिससे किसानों को लागत का डेढ़ गुना दाम मिल रहा है।

भयमुक्त और बेहतर कानून व्यवस्था को लेकर पुलिस आधुनिकीकरण पर जोर

हमारी सरकार शुरू से ही प्रदेश को भयमुक्त औऱ बेहतर कानून व्यवस्था पर जोर देती रही है। जिससे इस बजट में पुलिस के आधुनिकीकरण औऱ अवस्थापना पर पूरा फोकस किया गया है।

आजादी के बाद देश का उत्तर प्रदेश में पुलिस का आधुनिकीरण और अवस्थापना पर फोकस किया गया। पहली बार बजट में विशेष फोकस देते हुए पुलिस का आधुनिकीकरण और अवस्थापना के बजट को बढ़ाया है। इसमें 42.24 फीसदी बढ़ाया गया है।

पंचायती राज स्वच्छ भारत मिशन में उत्तर प्रदेश के अंदर 2 करोड़ से ज्यादा शौचायल बने हैं। थारू जनजाति को फोकस करते हुए पीएम आवास योजना में व्यवस्था की गई है। देश के अंदर उत्तर प्रदेश ने सबसे ज्यादा उन्नित की है। छूटे हुए परिवार के लिए हमने घर की व्यवस्था की है। शहरी क्षेत्र में भी पीएम आवास योजना में हम परिवारों को आर्थिक लाभ दे रहे हैं।

चिकित्सा शिक्षा में 1947 से 2016 तक प्रदेश में सिर्फ 13 मेडिकल कॉलेज थे, इस समय प्रदेश के अंदर लगभग 15 नए मेडिकल कॉलेज बन रहे है, 2 एम्स बन रहे हैं। यह काम हमने किया है। इसमें लगभग 19% का बजट बढ़ाया गया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मुख्यमंत्री सामयिक विवाह योजना पर भी हमने बजट दिया है। पेंशन योजना की राशि को हमने 400 से 500 किया है। विधवा पेंशन के लिए हमने उम्र की सीमा (लिमिट) हटा दिया है। दिवंगजन को पेंशन 300 से 500 किया है। प्रदेश के अंदर तीन विश्व विद्यालय बनाने जा रहे है। बलरामपुर में सेटेलाइट सेंटर के लिए भी हमने बजट में व्यवस्था की है। पीएसी की 3 नई महिला बटालियन के लिए भी हमने व्यवस्था की है।

गौवंश समस्या को लेकर सरकार ने किए बड़े उपाय

मेट्रो परियोजना के लिए भी बजट में व्यवस्था की गई है। जेवर एयरपोर्ट में बन रहे एयरपोर्ट व अयोध्या में नया एयरपोर्ट बनाने के लिए भी बजट दिया गया है। उन्होंने कहा कि 6000 करोड़ के बजट का प्रवधान स्वक्ष भारत मिशन के लिए हमने बजट दिया है। प्रधानमंत्री आवास योजना में उत्तर प्रदेश ने बड़ा काम किया है।

मुख्यमंत्री योगी जी ने कहा कि रजिस्टर्ड श्रमिकों के बच्चों के लिए शिक्षा के लिए भी बजट में व्यवस्था की गई है। मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना के अंतर्गत काम के लिए भी बजट में व्यवस्था की गई है। कन्या सुमंगला योजना नाम से योजना की हमने शुरुवात की है 1200 करोड़ रुपये का बजट हमने दिया है। नौजवानों का भी ध्यान बजट में दिया गया है माटी कला योजना का भी ध्यान बजट में जगह दी गई है। व्यापारी दुर्घटना बीमा की राशि 5 लाख से 10 लाख हमने की है।

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 8847567663 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।

Spread the love