सपा और बसपा का मतलब लूट-खसोट और भ्रष्टाचार, इन्हें म्युजियम में रखना चाहिए : योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश में भाजपा 75 से ज्यादा सीटे जीतेगी, अमेठी और आजमगढ़ भी हम जीतेंगे

डेली संवाद, लखनऊ।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि सपा बसपा का मतलब लूट-खसोट और भ्रष्टाचार है। लूट-खसोट और भ्रष्टाचार के इन नमूनों को सचमुच किसी म्युजियम में रखना चाहिए। मुख्यमंत्री ने राम मंदिर मुद्दे पर कहा कि दुनिया कहती है कि भगवान राम का जन्म अयोध्या में हुआ। उसका सम्मान मिलना चाहिए। अगर मध्यस्थता से उसका समाधान हो जाता तो सबसे पहले मैं उसका स्वागत करता। लगातार मध्यस्थता का प्रयास हुआ। 1986 से 1989 से बीच प्रयास हुए। उन्होंने कहा कि जहां रामलला विराजमान हैं, वहीं राम मंदिर है।

सुरक्षा और विकास की सबसे ज्यादा जरूरत अमेठी को है

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार को एक दैनिक समाचार पत्र के कार्यक्रम में सवालों का जवाब दे रहे थे। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में भाजपा 75 से ज्यादा सीटें जीतेगी। इसमें अमेठी औऱ आजमगढ़ भी शामिल है। अमेठी में एके 203 एसाल्ट रायफल निर्माण की परियोजना प्रधानमंत्री मोदी ने शुरू की, क्योंकि सुरक्षा औऱ विकास की सबसे जरूरत ज्यादा अमेठी को है। अमेठी पिछले चार पीढ़ियों से उपेक्षित था, उद्योग के नाम पर जो लोग राजीव गांधी फउंडेशन चला कर घपला कर चुके हैं, उन लोगों के सामने उद्योग लगाकर हमारी सरकार ने विकास कार्यों का नया आयाम प्रस्तुत किया है।

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि मुस्लिम पक्ष की तरफ से यह कहा जा रहा था कि इलाहाबाद की विशेष खंडपीठ जो फैसला करेगी हम मानेंगे। लेकिन, सबसे पहले उन्होंने ही इसका विरोध किया। 1994 में नरसिम्हाराव की अध्यक्षता में यह हलफनामा दिया गया कि अगर विवादित ढांचा किसी स्मारक तोड़कर बनाया गया है यह साबित हो गया उसे तोड़कर बनाया जाएगा। सभी ने एक स्वर में कहा कि जहां पर रामलला विराजमान है वहीं पर मंदिर बनना चाहिए।

रामलला जहां विराजमान हैं, वहीं राम मंदिर है – योगी

योगी ने कहा कि उच्चतम न्यायालय ने तीन सदस्यीय टीम गठित की है। अगर उच्चतम न्यायालय को लगता है कि इससे समाधान निकलेगा तो अच्छी बात है। लेकिन दुनिया जानती है कि यह आस्था का सवाल है। मंदिर बहुत बनेंगे लेकिन जन्मभूमि जहां रामलला ने जन्म लिया है उस आस्था का सम्मान होना चाहिए।

योगी ने कहा कि मुस्लिम पक्ष से जब प्रमाण की बात करते थे वे उठ कर चले जाते थे। अयोध्या के मुद्दे पर तस्वीर साफ है एएसआई ने खुद प्रमाणित किया है वही राम जन्म भूमि है। आज कुछ मुस्लिम लोगों ने कहा है कि ये जमीन मंदिर निर्माण के लिए दिया जाय। लेकिन आक्रांताओं के साथ कोई अपना संबंध जोड़ता है तो मध्यस्थता मुश्किल हो जाएगी।

हिन्दी न्यूज़ Updates पाने के लिए आप हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।

Spread the love