राहुल ने अमेठी से पर्चा दाखिल किया, सोनिया-प्रियंका और वाड्रा मौजूद रहे

अमेठी। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को लोकसभा चुनाव के लिए अमेठी से नामांकन दाखिल कर दिया। उन्होंने चौथी बार यहां से पर्चा भरा। इससे पहले उन्होंने गौरीगंज इलाके में बहन प्रियंका गांधी और रॉबर्ट वाड्रा के साथ दो किलोमीटर का रोड शो किया। इस दौरान सोनिया गांधी भी मौजूद ररहीं। राहुल इस बार केरल के वायनाड से भी चुनाव लड़ रहे हैं। 4 अप्रैल को राहुल ने वहां से पर्चा भरा था। उस दौरान प्रियंका भी उनके साथ थीं।

रोड शो में कार्यकर्ता गरीबों को 72 हजार रुपए सालाना देने वाली कांग्रेस की ‘न्याय योजना’ के नीले रंग के झंडे लहराए। इन पर राहुल की तस्वीर थी। पहली बार इस तरह के झंडे कांग्रेस के कार्यक्रम में नजर आए। कांग्रेस महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया भी रोड शो में उनके साथ थे। राहुल के नामांकन के चलते कलेक्ट्रेट को भी फूलों से सजाया गया।

11 अप्रैल को स्मृति भरेंगी नामाकंन

अमेठी में राहुल का मुकाबला इस बार फिर भाजपा की स्मृति ईरानी से है। ईरानी 11 अप्रैल को पर्चा भरेंगी। इस दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मौजूद रहेंगे। यहां बसपा-सपा गठबंधन ने अपना कोई उम्मीदवार घोषित नहीं किया है।

राहुल 2004 में पहली बार अमेठी से लोकसभा चुनाव लड़े थे। तब उन्होंने बसपा के चंद्र प्रकाश मिश्रा को करीब तीन लाख वोटों से हराया था। 2009 के चुनाव में राहुल फिर जीते। इस बार जीत का आंकड़ा साढ़े तीन लाख पहुंच गया। 2014 में राहुल तीसरी बार इस सीट से सांसद चुने गए। तब उनका मुख्य मुकाबला भाजपा उम्मीदवार स्मृति ईरानी से ही था। लेकिन इस बार राहुल की जीत का अंतर घटकर एक लाख सात हजार वोट पर आ गया।

अमेठी से अब तक कांग्रेस 2 बार हारी

अमेठी लोकसभा सीट कांग्रेस का गढ़ रही है। यहां अब तक 16 लोकसभा चुनाव और दो उप चुनाव हुए हैं। इनमें कांग्रेस 16 बार जीती। 1977 में यहां भारतीय लोकदल और 1998 में भाजपा ने चुनाव जीता था।

गांधी परिवार से जब-जब नए नेता आए वह अमेठी से ही लोकसभा पहुंचे। अमेठी में गांधी परिवार ने 1980 में दस्तक दी थी। तब संजय गांधी यहां कांग्रेस के टिकट से सांसद चुने गए। उनके निधन के बाद राजीव गांधी ने राजनीति में पदार्पण किया और 1981 से 1991 तक लगातार चार बार यहां से सांसद चुने गए।

1991 में राजीव के निधन के बाद कांग्रेस के सतीश शर्मा 1991 से 1998 तक यहां से सांसद चुने गए। 1998 से 1999 तक भाजपा के संजय सिंह यहां से लोकसभा गए। 1999 में जब सोनिया गांधी का राजनीति में पदार्पण हुआ तो वह भी चुनाव लड़ने अमेठी आईं। 1999 से 2004 तक वे यहां से सांसद रहीं। इसके बाद वह रायबरेली सीट से लगातार सांसद हैं। 2004 में राहुल ने राजनीति में कदम रखा और उन्होंने भी अमेठी को चुना।

हिन्दी न्यूज़ Updates पाने के लिए आप हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।

Spread the love